मुझे चांद चाहिए, लेखक सुरेंद्र वर्मा (Meaning: I Want Moon, by Surendra Verma)

For English translation of the review of this book, please scroll down.

समीक्षा: श्वेता एच एस द्वारा

कहानी की पृष्टभूमि एक छोटे शहर की लड़की वर्षा पर आधारित है| वर्षा स्वाभाव से अंतर्मुखी, विनम्र और शर्मीली किंतु महत्वकाँशाओं से परिपूण है; जिसके जीवन का लक्ष्य एक सफल एवं चहेती फिल्म अभिनेत्री बनने का है|

कहानी एवं उसका हर एक अध्याय कुछ इस तरह व्यक्त किया गया है कि, उसके अंत का अनुमान लगाना असंभव है| हर एक पात्र को प्रस्तुत करने से पूर्ण उसकी पृष्टभूमि का सन्छिप्त वर्णन किया गया है| लेखक ने कहानी को कहीं भी दिशाहीन नही होने दिया, किसी घटना की भूमिका बांधनें के लिए लेखक आपको समय में थोड़ा पीछे भी ले जाता है| कहानी में बहुत सारे किरदार हैं और सबकी उपस्तिथि यशोदा शर्मा/सिलबिल/वर्षा वशिष्ठ के जीवन की कहानी व्यक्त करने में बहुत महत्वपूर्ण है|

जैसा कि किताब का शीर्षक व्यक्त करता है, ये कहानी कुछ असंभव हासिल करने की कोशिश कि कहानी है| तो, क्या वर्षा वशिष्ठ सभी इच्छाओं को प्राप्त करती है? इस प्रक्रिया में क्या उसे कुछ खोना भी पड़ता है? इस उपन्यास अत्यधिक दिलचस्प है जिसे पूरा पढ़े बिना नीचे रखना बहुत मुश्किल है| हिन्दी भाषा के पाठकों के लिए यह उपन्यास एक अनमोल खजाना है|

“कोई इच्छा अधूरी रह जाए, तो ज़िंदगी में आस्था बानी रहती है।” – वर्षा वशिष्ठ

 

English translation of the review given above in Hindi:

Review by Shwetha H S

This is a story of how a small town girl, who is an introvert and shy, grows up ambitiously yet humbly, to become a successful, much sought-after, superstar in Indian film industry is narrated captivating manner. You cannot even once guess the ending of any chapter, leave alone the whole story. It is a must read for any voracious reader who can read Hindi.

Narration is in such a way that every character introduced gets his/her background explained briefly. The same goes with the situations too; if the events leading to the current situations are not explained in the flow of the story, then the author takes you slightly back in time to let you know the sequence. There are too many characters and their presence is justified by the life story of Yashoda Sharma/Silbil/Varsha Vashisht. The title of the book suggests it is a story of an attempt to gain something impossible. So, does Varsha Vashisht attain all that she desires? Does she lose anything in the process? This novel will make it hard for you to put it down.

Koi ichcha adhoori reh jaaye, toh zindagi mein aastha bani rehti hai (If any desire is unfulfilled, then it lets you retain faith in life.)” – Varsha Vashisht

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s