इश्क़ में शहर होना, लेखक: रवीश कुमार

For translation of the review in English, please scroll down.

समीक्षा: आशुतोष सिंह

पहली नज़र में किताब के शीर्षक को समझ पाना थोड़ा मुश्किल है | प्रस्तावना पढ़ने के उपरांत आपको शीर्षक का अर्थ समझ आने लगेगा | रवीश लगभग १८ वर्षों से पत्रकारिता की दुनिया में हैं, और आज-कल के सबसे प्रभावशाली और लोकप्रिय हिन्दी टेलिविसन पत्रकारों में शुमार हैं | उन्होने फ़ेसबुक पर ‘लप्रेक’ अर्थात ‘लघु प्रेम कथा’ लिखना शुरू किया | यह किताब उन्हीं ‘लप्रेकों’ का संकलन है |

सारी परिकल्पनायें दिल्ली और एन. सी. आर. के इर्द-गिर्द बुनी हुई हैं | किताब की सारी कहानियाँ आधे से एक प्रष्ठ लंबी हैं | हर एक प्रष्ठ पर दो नये और विभिन्न किरदार, उनके बीच बीता वो पल और एक शहर उनको जोड़ता और कभी-कभी तोड़ता हुआ | एक बड़े शहर में इश्क फरमाने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है, कौन कौन सी दूरियाँ तय करनी पड़ती हैं, ऑटो वालों के ‘बेक मिरर’ पर नज़रे गड़ाए रखना और ऐसी ही परेशानियों को रवीश ने बड़े अनूठे ढंग से प्रस्तुत किया है | सारी कहानियाँ व्यवहारिक और सच्ची हैं और यही इनका सबसे बड़ा आकर्षण है | विक्रम नायक द्वारा बनाए चित्र बड़े ही चतुर हैं और हर कहानी को एक नया नज़रिया देते है |

प्रस्तावना से-

‘प्रेम हम सबकको बेहतर शहरी बनता है | हम शहर के हर अंजान कोने का सम्मान करने लगते हैं | उन कोनों मैं ज़िंदगी भर देते हैं | आप तभी एक शहर को नये सिरे से खोजते हैं जब प्रेम में होते हैं | और प्रेम में होना सिर्फ़ हाथ थामने का बहाना ढूँढना नहीं होता | दो लोगों के उस स्पेस में बहुत कुछ टकराता रहता है | लप्रेक उसी कशिश और टकराहट की पैदाइश है |’

 

Translation of the above given review to English:

Review by Ashutosh Singh

It’s difficult to make out the meaning of the title in the first go. You can understand a little bit after going through the introduction. Ravish has been a journalist from past 18 years and he is one of the most influential and loved Hindi Television Journalist in the country right now. He started writing short stories on facebook which he named ‘लप्रेक’ which expands to ‘लघु प्रेम कथा’ (short love story) All the stories are based in an around the Delhi and NCR region. Each story is a half to one page long. Every new page has two new and different character, that moment they spent and a town which often binds but sometimes breaks them. Ravish has uniquely put up the problems of falling in love in a metro city be it traveling a long distance to meet or the auto guy continuously peeping at the couple through that back mirror. All the stories are practical and truthful, and that’s the biggest attraction. Vikram Nayak has very cleverly sketched for each story and which also gives it a new perspective. From Introduction- Love makes us a better citizen. We start respecting all the unknown nooks and corner of the city. We fill those corners with life. You search a city with a new perspective only when you are in love. And being in love doesn’t just means looking for a reason to hold hands. There are many things that collide between those two people. ‘लप्रेक ‘ is an outcome of that charm and collision.

Advertisements

One comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s